Saturday, December 4, 2010

" मैं निखरता जाऊं "

" तुम जीवन बनो मैं कर्म बनूँ ,
तुम अस्त्र बनों मैं योद्धा !
तुम धार बनों मैं वार बनूँ ,
क्यों न विजित समर होगा !!
संघर्ष मुझे प्रिये होगा ,
यदि विश्वास बनों तुम !
धरा भी मैं पग से नापूं ,
यदि आकाश बनों तुम !!
सरिता की तरह बहाना सीखो तुम ,

मैं तेज प्रवाह बन जाऊंगा !
तुम जो बन सके मोती ,
मैं प्रशांत अथाह हो जाऊंगा !!
तुम बनों प्रेरणा मेरे लिए ,

मैं भी तुम्हे प्रेरित करता जाऊं !
तुम निखरो महक जीवन की लेकर ,
तुमसा मैं भी निखरता जाऊं !!"

"-... मनु "

2 comments:

  1. ब्‍लॉग्‍स की दुनिया में मैं आपका खैरकदम करता हूं, जो पहले आ गए उनको भी सलाम और जो मेरी तरह देर कर गए उनका भी देर से लेकिन दुरूस्‍त स्‍वागत। मैंने बनाया है रफटफ स्‍टॉक, जहां कुछ काम का है कुछ नाम का पर सब मुफत का और सब लुत्‍फ का, यहां आपको तकनीक की तमाशा भी मिलेगा और अदब की गहराई भी। आइए, देखिए और यह छोटी सी कोशिश अच्‍छी लगे तो आते भी रहिएगा


    http://ruftufstock.blogspot.com/

    ReplyDelete
  2. प्रिय रोहित जी ,

    आपने मेरे ब्लॉग पढ़े , उसके लिए मैं आपका शुक्रिया करता हूँ ! मैं उम्मीद करूँगा हम इसी तरह एक दूजे के ब्लाग्स पढतें रहें और उत्साह बढ़ातें रहेंगे !
    मनु

    ReplyDelete